Tech

व्हाट्सएप (Whatsapp) यूजर्स के लिए नया साल 2021 नई शर्तों के साथ शुरू हुआ है। शर्तें भी ऐसी जिसे आप नजरन्दाज करते हैं तो मोबाइल से व्हाट्सएप (Whatsapp) अनइंस्टाल करना होगा नहीं तो 8 फरवरी के बाद व्हाट्सएप (Whatsapp) खुद आपको रिजेक्ट कर देगा। व्हाट्सएप (Whatsapp) के नई Privacy Police आपको मानना है या नही इस बारे में सोचने के लिए आपके पास सिर्फ 8 फरवरी तक का वक्त है।

Tech

दुनिया भर मे व्हाट्सएप्प (Whatsapp) के 200 करोड़ से ज्यादा यूज़र्स हैं जो नियमित रूप से इसे यूज़ करते हैं लेकिन व्हाट्सएप्प(Whatsapp) के नई Privacy & Policy ने सभी यूज़र्स के आंखों की नींद खराब कर दी है जिसे नजरअंदाज करना मुश्किल है. इसी के साथ व्हाट्सएप्प (Whatsapp) ने End-to-Encrypted सर्विस बन्द कर दी है. व्हाट्सएप्प end-to-encrypte के लियेे ही जाना जाता था जो अब नही रहा.

क्या है व्हाट्सएप्प की नई प्राइवेसी पॉलिसी?

Tech

यूज़र्स को साल के शुरुआत से ही व्हाट्सएप्प की नई निति यानी कि प्राइवेसी पॉलिसी (Privacy & Policy) का अपडेट मिलने लगा है. व्हाट्सएप्प के नई नीति से यूज़र्स को किसी भी हालत में सहमत (Agree) होना ही है. नही तो 8 फरवरी के बाद आपके फ़ोन में व्हाट्सएप्प नही चलेगा. अगर आप अभी व्हाट्सएप्प के नई Privacy & Policy को अभी एक्सेप्ट नहीं करते हैं तो कोई बात नही लेकिन आगे भी आपको व्हाट्सएप्प यूज़ करते रहना है तो व्हाट्सएप्प के हेल्प सेंटर पर जाकर इसके पॉलिसी को एग्री कर सकते हैं लेकिन फिलहाल अभी नॉट एग्री का भी ऑपशन भी है लेकिन 8 फरवरी के बाद नॉट एग्री का ऑपशन नही मिलेगा.

क्या लिखा है व्हाट्सएप्प के नई Privacy Policy में ?

व्हाट्सएप्प (Whatsapp) की नई सुरक्षा नीति (Privacy & Policy) में साफ साफ लिखा कि है कि हमारे सर्विसेज को यूज़ करने के बदले आपकी निजी डेटा कहीं भी यूज़ कर सकते हैं. यानी कि जो भी आप व्हाट्सएप्प पर कंटेंट अपलोड करते हैं या फॉरवर्ड करते हैं जैसे कि पर्सनल चैटिंग, पोस्ट, वीडियो, ऑडियो किसी को भेजते हैं या रिसीव करते हैं उसपर अब व्हाट्सएप्प (Whatsapp) का नजर रहेगी और व्हाट्सएप्प आपकी निजी जानकारी (Personal Information) को किसी को भी बेच सकती है और दिखा सकती है.

वॉट्सऐप ने ऐसा फैसला क्यों लिया?

जैसा कि सभी को पता होगा कि व्हाट्सएप को फेसबुक ने खरीद लिया है जैसे ही आप व्हाट्सएप्प को खोलते होंगे तो होम पेज पर ही आपको दिख जाएगी from Facebook यानी कि व्हाट्सएप्प फेसबुक के अधीन में है व्हाट्सएप्प का मालिक फेसबुक ही है। तो अगर आप इसके privacy policy को agree करते हैं तो आपकी डेटा फेसबुक और इंस्टाग्राम कहीं भी यूज़ करेगी और अपना पैसा बनायेगी। नई पॉलिसी में साफ लिखा है कि आपकी निजी डेटा फेसबुक इंस्टाग्राम सहित दूसरे प्लेटफॉर्म पर शेयर की जाएगी. आपकी निजी जानकारी को उपयोग या बेच कर कर व्हाट्सएप्प अपनी पेरेंट कम्पनी फसेबूक और इंस्टाग्राम को शेयर कर ढ़ेर सारा पैसा कमाएगी.

पॉलिसी का यूजर पर क्या असर होगा?

इस नई पॉलिसी से यूज़र्स को भारी नुकसान होगा. इसे एक्सेप्ट करने के अलावा व्हाट्सएप्प ने कोई चारा भी नही रखा है। न चाहकर भी आपको व्हाट्सएप्प की नई privacy and policy को agree करना ही होगा, तो अब हम जानते हैं कि यूज़र्स पर इसका कैसे प्रभाव पड़ेगा-

खर्च से तय होंगे विज्ञापन: व्हाट्सएप्प आपकी सारी जानकारी ट्रेक करेगा यानी कि आपके बैंक में कितना पैसा रहता है, आप कहाँ रहते हैं कहाँ जाना पसंद करते हैं ये लोकेशन से ट्रेक करेगा, आप क्या पसंद करते हैं, ऑनलाईन आर्डर कर कुछ खाने या पहनने का समान मंगाएंगे तो उसकी भी जानकारी व्हाट्सएप्प को हो जाएगी फिर आपकी पसंद के अनुसार ही फसेबूक और इंस्टाग्राम प्रचार (Ad) दिखने लगेगी. आप गरीब श्रेणी में आते हैं या अमीर श्रेणी में सबकुछ व्हाट्सएप्प को जानकारी रहेगी फिर वही जानकारी व्हाट्सएप्प दूसरे प्लेटफार्म को शेयर करेगी.

Whatsapp स्टेटस भी सुरक्षित नहीं: अब व्हाट्सप्प पर कुछ भी सुरक्षित नहीं है अगर आप स्टेट्स पर ये लगाते हैं की मुझे ये गाड़ी बहुत पसंद है तो जब आप इंस्टग्राम या फेसबुक खोलेंगे तो वहां पर भी आपको इसके रेलेटेड गाड़ी दिखेंगे जो एक एड होगा तो आप न चाहकर भी उसे खरीदना या क्लिक करना चाहेंगे जो व्हाट्सअप को एक इनकम का स्रोत होगा। मैंने यहाँ पर एक गाड़ी का उदहारण दिया है ऐसे न जाने कितनी चीजे आप स्टेटस पर लगाते  होंगे सारा जानकारी स्टेटस का भी व्हाट्सप्प ट्रेक करेगा।

कॉल पर भी होगी नजर: आप किस व्यक्ति के पास कितनी बार कॉल करते हैं कौन आपका फेवरेट है? कौन से ग्रुप में आप ज्यादा एक्टिव रहते हैं ? आप क्या फॉरवर्ड कर रहे हैं ? फेक जानकारी कितने बार फॉरवर्ड करते हैं चुनाव के वक्त ये जानकारी बहुत अहम होगी इससे फेक जानकारी रोकने में मददगार होगी।

क्या पॉलिसी को एक्सेप्ट करना चाहिए?

व्हाट्सएप्प की नई पॉलिसी को एग्री करना अब आपके हाथ मे है क्योंकि इसके पॉलिसी को accepet करना है कि अपना सारा कंट्रोल व्हाट्सएप्प को दे देना है इससे आपका सारा डेटा व्हाट्सएप्प अपने पास रखेगी और बिना कोई इजाजत के इसे यूज़ भी करेगी। सीधी बात है अगर आपको व्हाट्सएप्प रेगुलर चलाना है तो आपको व्हाट्सएप्प के नई पॉलिसी को मानना ही पड़ेगा। लेकिन privacy के लिए आपके लिए काफी खतरनाक होगा।

कंपनी की एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड पॉलिसी का क्या हुआ?

जब शुरआत में व्हाट्सएप्प आया था तो उस समय इसके end-to-end encrypted सेवा काफी पॉपुलर हुआ था क्योकि लोगो को प्राइवेसी चाहिए था इसलिए धीरे धीरे व्हाट्सएप्प ने लोगो के फोन में जगह बना लिया। लेकिन जब अब व्हाट्सएप्प फेसबुक का हो गया है तो 8 फरवरी से Facebook सबकुछ खत्म करने वाला है यानी कि अब एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड सर्विस बन्द करने वाली है।

End-to-End Encrypted क्या है? 

Tech

एंड-टू-एंड एन्क्रिप्ट होने से आपके मैसेज, फोटो, वीडियो, वॉइस मैसेज, डॉक्यूमेंट, स्टेटस और कॉल सुरक्षित हो जाते हैं और कोई उनका गलत इस्तेमाल नहीं कर सकता है। एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन फीचर से यह पक्का हो जाता है कि मैसेज और कॉल सिर्फ आपके और आपके कॉन्टैक्ट के बीच ही रहें। यहां तक कि वॉट्सऐप भी उन्हें पढ़, सुन और देख न पाए।

One thought on “whatsapp की नई privacy policy चर्चा में क्यों है? पूरी जानकारी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *